PANKHURI

PANKHURI
कुछ आखर-कुछ पन्ने

Monday, April 16, 2012

उम्मीद की तासीर...



तुम मिल गए हो तो बस
समझ लूँ ...
आने वाली है सुबह,
होने  वाले हैं उजाले,
मान लूँ.... 
मेरी हिस्से के सूरज ने भी 
खोल दी हैं
अपनी आँखें,
पसार दी हैं 
अपनी बाहें,
कर लिया है अपना रुख
मेरी बे-उजाला किस्मत की ओर...,
और इसी उम्मीद से
जी जाऊं एक बार फिर.... 
कि
उम्मीद की तासीर...
 यकीन से ज़ियादा होती है...!!!


'' मैं '' प्रतिमा ....

7 comments:

  1. एक निवेदन
    कृपया निम्नानुसार कमेंट बॉक्स मे से वर्ड वैरिफिकेशन को हटा लें।
    इससे आपके पाठकों को कमेन्ट देते समय असुविधा नहीं होगी।
    Login-Dashboard-settings-posts and comments-show word verification (NO)

    अधिक जानकारी के लिए कृपया निम्न वीडियो देखें-
    http://www.youtube.com/watch?v=VPb9XTuompc

    धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद् यशवंत जी , पहला मेरे ब्लॉग से जुड़ने और अपने बहुमूल्य कमेंट्स देने के लिए , दूसरा मुझे वर्ड वेरिफिकेशन की जटिलता से आगाह करने के लिए....सचमुच ये एक बाधा जैसा ही है...मैंने अब इसे अपने ब्लॉग से हटा दिया है.

      Delete
  2. वाह................

    बहुत सुंदर.

    अनु

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद अनु...अपनी एक दाद ने मुझे बड़ा हौसला दिया है...ये जुड़ाव बना रहे...

      Delete
  3. उम्मीद की तासीर...
    यकीन से जियादा होती है...!!!
    एकदम सच!!... उम्मीद से ही दुनिया कायम है... जब तक उम्मीद का दामन हाथों में है... कोई भी सपना कभी भी हकीकत की शक्ल अख्तियार कर सकता है...!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. हाँ , इसी उम्मीद का दामन थामे ही तो हमने बड़े-बड़े सागर पार कर डाले हैं :-)

      Delete